www.gkmob.com

पंकज तो पंकज, मृगांक भी है मृगांक री प्यारी​। ​मिली न तेरे मुख की उपमा, देखी वसुधा सारी में कौन सा अलंकार है?

Pankaj to pankaj mrigank bhi alankar hai?

पंकज तो पंकज, मृगांक भी है मृगांक री प्यारी​। ​मिली न तेरे मुख की उपमा, देखी वसुधा सारी में अनुप्रास अलंकार है.